आखिर क्यों मंदिर की रखवाली करता है शाकाहारी मगर

0
48

केरल का अनंतपुर मंदिर जो कासरगोड में स्थित है, केरल का एकमात्र झील मंदिर है। स्थानीय निवासियों का कहना है कि ज्यादा या कम बारिश होने पर झील के पानी के स्तर पर कोई बदलाव नहीं होता वो हमेशा एक-सा रहता है। अनंतपुर मंदिर की यह मान्यता है कि यहां की रखवाली एक मगरमच्छ करता है जो की पूर्णतया शाकाहारी है। बबिआ नाम से प्रसिद्ध इस शाकाहारी मगरमच्छ के बारे में यह भी मान्यता है कि जब इस झील में एक मगरमच्छ की मृत्यु होती है तो रहस्यमयी ढंग से दूसरा मगरमच्छ प्रकट हो जाता है।

एक मनोहारी झील के बीचों-बीच बना यह मंदिर भगवान अनंत-पद्मनाभस्वामी का है। मान्यता यह है कि मंदिर की झील में रहने वाला यह मगरमच्छ पूरी तरह शाकाहारी है और यह सिर्फ प्रसाद खाकर ही रहता है। यह मगरमच्छ अनंतपुर मंदिर की झील में करीब 60 सालों से रह रहा है। भगवान को भोग लगाने के बाद भक्तों द्वारा चढ़ाया गया प्रसाद बबिआ को खिलाया जाता है। प्रसाद खिलाने की अनुमति सिर्फ मंदिर प्रबंधन के लोगों को है। बड़ी बात यह है कि मगरमच्छ झील के अन्य जीवों को नुकसान नहीं पहुंचाता।

एक बुजुर्ग के अनुसार 1945 में एक अंग्रेज सिपाही ने एक मगरमच्छ को गोरी मार दी थी लेकिन अविश्वसनीय रूप से अगले दिन वही मगरमच्छ झील में तैरता मिला। इस घटना के कुछ दिन बाद उस अंग्रेज सिपाही की सांप के काट लेने से मौत हो गई। लोग इसे सांपों के देवता अनंत का बदला मानते हैं। माना जाता है कि अगर आप भाग्यशाली हैं तो आज भी आपको इस मगरमच्छ के दर्शन हो जाते हैं। मंदिर के ट्रस्टी श्री रामचन्द्र भट्ट जी कहते हैं, हमारा दृढ़ विश्वास है कि ये मगरमच्छ ईश्वर का दूत है और जब भी मंदिर प्रांगण में या उसके आसपास कुछ भी अनुचित होने जा रहा होता है तो यह मगरमच्छ हमें सूचित कर देता है।

 

इस मंदिर की बड़ी खासियत यह है कि मंदिर की मूर्तियां धातु या पत्थर की नहीं बल्कि 70 से ज्यादा औषधियों की सामग्री से बनी हैं। इस प्रकार की मूर्तियों को ‘कादु शर्करा योगं’ के नाम से जाना जाता है। हालांकि, 1972 में इन मूर्तियों को पंचलौह धातु की मूर्तियों से बदल दिया गया था, लेकिन अब इन्हें दोबारा ‘कादु शर्करा योगं’ के रूप में बनाने का प्रयास किया जा रहा है। यह मंदिर तिरुअनंतपुरम के अनंत-पद्मनाभस्वामी का मूल स्थान है।

http://www.citytime.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here