मौसम के ‘यू-टर्न’ से वायरल के मरीजों की बढ़ी तादाद

0
55

मौसम का ‘यू-टर्न’ लोगों को बीमार कर रहा है।

 

बीते कुछ समय से लगातार दिन और रात के तापमान में भारी अंतर देखा जा रहा है। तापमान में यह अंतर 12 से 14 डिग्री तक है यानी दिन में तापमान 36 डिग्री दर्ज हो रहा है तो रात में यह गिरकर 22 से 24 डिग्री पर पहुंच जा रहा है। ऐसे में जरा सी भी लापरवाही आपकी सेहत बिगाड़ सकती है। इस मौसम में इंफेक्शन का खतरा भी ज्यादा रहता है। हाल यह है कि कॉमन कोल्ड, ब्रॉकाइटिस, सर्दी-जुकाम, खांसी, सांस लेने में परेशानी, गले में खराश, सिर में जकड़न, आंखों में इंफेक्शन, अस्थमेटिक अटैक के साथ लोग वायरल फीवर की चपेट में हैं।

टेंपरेचर में 10 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा का उतार-चढ़ाव शरीर पर असर डालता है। इससे सबसे ज्यादा परेशान कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोग होते हैं। इसलिए सावधानी बरतने की जरूरत है। वायरल फीवर में सर्दी-जुकाम, गले में दर्द और बदन दर्द प्रमुख लक्षण हैं। बुजुर्ग, बच्चों और बीमार लोगों पर वायरल फीवर अधिक अटैक करता है। इन दिनों करीब 15 से 20 प्रतिशत छोटे बच्चों को रेस्पिरेटरी इंफेक्शन के साथ कफ और खांसी जैसी प्रॉब्लम्स परेशान कर रही है।   जिस तेजी से टेंपरेचर चेंज होता है, उस हिसाब से बॉडी खुद को चेंज नहीं कर पाती।

बदलते मौसम में यूं रखें अपना ख्याल

– गला खराब हो तो गर्म पानी और नमक से गरारा करें
– मॉल, बाजार जैसी भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचें
– सूप, जूस और गुनगुना पानी पीने से फायदा होता है
– खाने से पहले और बाद में हाथ अच्छी तरह साफ करें
– फ्रिज की ठंडी चीजों और आइसक्रीम खाने से परहेज करें
– सुबह की वॉक पर जाएं तो हल्का गर्म कपड़ा जरूर पहनें

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here