भारत की दो टूक आतंकी घुसपैठ को समर्थन बर्दाश्त नहीं

0
123
citytime.in14-PakistanIndia_5

भारत की दो टूक आतंकी घुसपैठ को समर्थन बर्दाश्त नहीं

citytime.in14-PakistanIndia_5

नई दिल्ली
भारत और पाकिस्तान के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलटरी ऑपरेशन्स की सोमवार को हॉटलाइन पर बातचीत हुई, जो पहले से तय नहीं थी। पाकिस्तान ने बातचीत के लिए अनुरोध किया था। इससे पहले जुलाई और सितंबर में भी दोनों देशों के डीजीएमओ ने अचानक बातचीत की थी। सोमवार को हुई बातचीत में पाकिस्तान के डीजीएमओ ने आरोप लगाया कि भारतीय सुरक्षा बलों ने लाइन ऑफ कंट्रोल पर बिना किसी उकसावे के फायरिंग की। भारत के डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल एके भट्ट ने पाकिस्तान के डीजीएमओ से जोर देकर कहा कि हथियारबंद आतंकवादियों को पाकिस्तानी आर्मी के समर्थन के जवाब में भारतीय सैनिकों ने फायरिंग की थी।

भारत के डीजीएमओ ने दो टूक शब्दों में कहा कि ये आतंकवादी सीमा पार कर घुसपैठ करना चाहते थे और भारतीय सेना की चौकियों को निशाना बनाना चाहते थे। उनके पास हैवी कैलिबर के हथियार थे। उन्होंने साफ कहा कि पाकिस्तानी सेना का आतंकवाद को समर्थन भारत को बर्दाश्त नहीं है। अगर आतंकवादियों को लाइन ऑफ कंट्रोल पार करते समय पाकिस्तानी सेना ने समर्थन देती रही तो उसका नुकसान उठाना पड़ेगा। भारतीय सेना भविष्य में भी जवाबी कदम उठाते रहेगी।

भारतीय डीजीएमओ ने यह भी कहा कि भारतीय सेना हमेशा पेशेवर मानकों का पालन करती है और कभी भी सिविलियंस को टारगेट नहीं करती। भट्ट ने यह भी कहा कि भारतीय सेना फायरिंग की शुरुआत नहीं करती, वह तो सिर्फ जवाब देती है।

भारतीय मछुआरे रिहा
इस बीच पाकिस्तान सरकार ने 68 भारतीय मछुआरों को रिहा करने का फैसला किया है। राजधानी स्थित पाकिस्तानी दूतावास के सूत्रों ने सोमवार को बताया कि इन्हें वाघा बॉर्डर के रास्ते स्वदेश भेजा जाएगा। ये मछुआरे गलती से पाकिस्तान की जल सीमा में आ गए थे। पाक सरकार ने सद्भावना के तहत यह कदम उठाया है।

http://www.citytime.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here