सुप्रीम कोर्ट का फैसला, 18 साल से कम पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना बलात्कार

0
166
nabalik se balatkar

nabalik se balatkar

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला लिया है. 18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जा सकता है, यदि नाबालिग पत्नी इसकी शिकायत करे तो हो सकती है सजा। कोर्ट ने कहा कि शारीरिक संबंधों के लिए उम्र 18 साल से कम करना असंवैधानिक है. कोर्ट ने IPC की धारा 375 के अपवाद को अंसवैधानिक करार दिया. अगर पति 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाता है तो रेप माना जाए. कोर्ट ने कहा ऐसे मामले में एक साल के भीतर अगर महिला शिकायत करने पर रेप का मामला दर्ज हो सकता है.

दरअसल, IPC375(2) क़ानून का यह अपवाद कहता है कि अगर कोई 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नही माना जाएगा जबकि बाल विवाह कानून के मुताबिक शादी के लिए महिला की उम्र 18 साल होनी चाहिए. देश में बाल विवाह भारी संख्या में हो रहे हैं. ऐसे में राज्यों पर इन्हें रोकने की जिम्मेदारी है. कोर्ट ने इस मामले को POCSO के साथ जोड़ा है.

सेबी ने सुप्रीम कोर्ट में सहारा चीफ सुब्रत राय खिलाफ अवमानना अर्जी दाखिल की

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि बाल विवाह सामाजिक सच्चाई है और इस पर कानून बनाना संसद का काम है. कोर्ट इसमें दखल नहीं दे सकता. 15 से 18 साल की बीवी से संबंध बनाने को दुष्कर्म मनाने वाली याचिका कोर्ट फैसला सुनाएगा. वहीं मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सती प्रथा भी सदियों से चली आ रही थी लेकिन उसे भी खत्म किया गया, जरूरी नहीं, जो प्रथा सदियों से चली आ रही हो वो सही हो.

http://www.citytime.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here